You are here
Home > Politics > बच्चे की तरह होते हैं पौधे, जो बढ़कर परिवार बन जाते हैं-बनोठ

बच्चे की तरह होते हैं पौधे, जो बढ़कर परिवार बन जाते हैं-बनोठ



विश्व पर्यावरण दिवस पर पौधा रोपण कर प्रकृति के संरक्षण पर बोले कलेक्टर


धार।
पौधे परिवार के उन छोटे बच्चों की तरह होते हैं, जिन्हें खूब दुलार और प्यार की जरुरत होती है। बडे़ होकर वे फल देने लायक पेड़ बन जाते हैं। यही एक भरापुरा परिवार होता है। शुक्रवार को विश्व पर्यावरण दिवस पर पौधारोपण के साथ कलेक्टर श्रीकांत बनोठ ने प्रकृति के संरक्षण पर अपनी बात रखी।

कलेक्टर ने विश्व पर्यावरण दिवस पर रामनगर काॅलोनी, कुम्हार गड्ढा स्थित रामेश्वर मंदिर परिसर में पौधारोपण किया। कलेक्टर बनोठ ने यहां कदम के पौधे सहित चार अन्य पौधों का रोपण कर वहां उपस्थित सभी से कहा कि कर्तव्य निभाने से ही ख़ुशी मिलती है और मैने विश्व पर्यावरण दिवस पर पौधरोपण कर अपना कर्तव्य निभाया, जिसके साथ आपको भी अपने कर्तव्य को पहचानना होगा। इस अवसर पर मुख्य नगर पालिका अधिकारी विजय कुमार शर्मा साथ थे। यहां के बाद कलेक्टर ने माण्डू रोड़ स्थित फाॅरेस्ट आॅफिस के रेस्ट हाॅउस पर भी पौधरोपण किया।

Leave a Reply

Top